अभिषेक रंजन



होकर मायूस न आंगन से उखाड़ो पौधे, 
धुप बरसी है तो बरसात भी यही होगी !